Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

मेट्रो रेलवे में सीसीटीवी निगरानी प्रणाली

·प्रत्येक स्टेशन (दमदम से कवि सुभाष तक) में भुगतान रहित क्षेत्रों पर उपयुक्त स्थानों में दो पीटीजेड (पैन, टिल्ट, जूम) डूम कैमरे लगाए गए हैं। किसी प्रकार के अस्‍थिर वस्‍तुओं पर नजर रखने या पता लगाने के लिए स्टेशन मास्टर एवं सेक्‍शन नियंत्रक के डेस्क पर पीटीजेड कैमरों का नियंत्रण है।

·प्रत्‍येक स्‍टेशन पर उपयुक्‍त स्‍थानों में आठ डिजीटल फिक्‍स कैमरे लगाए गए हैं।

·आठ कैमरों में से 2 कैमरे अप एवं 2 कैमरे डाउन प्‍लेटफार्म पर लगाए गए हैं ताकि मेट्रो कोचों के दरवाजों से उतरते एवं चढ़ते हुए यात्रियों की गतिविधियों पर नजर रखी जा सके।

·गाड़ी के गार्ड द्वारा यात्रियों आवागमन गतिविधियों पर नजर रखने के लिए उपर्युक्‍त कैमरे चार 21रंगीन मॉनीटरों से जुड़े हुए हैं।

·अप एवं डाउन दिशा में ट्रेनों के संचालन पर नजर रखने के लिए प्‍लेटफार्म के उपयुक्‍तस्‍थान पर एक कैमरा लगाया गया है तथा उसके आऊटपुट मेट्रो रेल भवन स्‍थित ट्रेननियंत्रक के पास रखे गए मॉनिटर में प्रदर्शित होता है।

·स्‍टेशन मास्‍टर एवं मेट्रो भवन स्‍थित सेक्‍शन नियंत्रण के द्वारा निगरानी करने के उदेश्य से छह एनालॉग श्‍वेतश्याम कैमरों के साथ तीन डिजीटल कैमरे उपयुक्त स्थान पर लगाए गए हैं।

·उपर्युक्त 16 कैमरों की विडियो रिकार्डिंग कर छह महीने तक इनके डाटा रखने हेतु प्रत्‍येक स्‍टेशन पर एक 16 चैनल वाली डिजीटल विडियो रिकॉर्डर (डीवीआर) भी लगाया गया है।

·किसी भी कैमरे से लिए गए तस्वीर अथवा रिकॉर्ड किए गए विडियो का अवलोकन करने हेतु स्टेशन मास्टर के कार्यालय में एक 21 इंच रंगीन मॉनीटर लगाया गया है।

·23 स्टेशनों (दमदम से कवि सुभाष) में लगाए गए कैमरों के विडियो रिकार्डिंग मेट्रो भवन में प्रसारित किए जाते हैं तथा ट्रेन कंट्रोलर के समक्षलगे 23 विभिन्न 15 इंच रंगीन मॉनिटर में प्रदर्शित होते हैं।

·मेट्रो भवन स्थित सुरक्षा कर्मियों को रियल टाइम विडियो को देखने अथवा किसी भी कैमरा द्वारा रिकोर्ड किए गए डाटा को प्लाज्मा मॉनिटर पर पुन: प्राप्त करने की सुविधा प्रदान की गई है।




Source : मेट्रो रेलवे कोलकता / भारतीय रेल का पोर्टल CMS Team Last Reviewed on: 02-09-2014